कुछ है घायल

0
24
views


ये क्या है, जो आँखों से रिसता है, 
कुछ है भीतर, जो यूँ ही दुखता है, 
कह सकता हूं, पर कहता भी नहीं, 
कुछ है घायल, जो यहाँ सिसकता है।

कुछ है घायल शायरी

LEAVE A REPLY