मेरी इन बाहों में आकर

0
8
views
जब कभी सिमटोगे तुम… मेरी इन बाहों में आकर, 
मोहब्बत की दास्तां मैं नहीं मेरी धड़कने सुनाएंगी।

LEAVE A REPLY