Love Shayari, Pyaar koi diya nahi

0
34
views
Pyaar koi diya nahi, jab chaaha jala diya bujha diya,
Ye baalu ka mahal nahi,jab chaaha bana liya mita diya,
Ye rass hai jo dil ki gaharaiyon se nikalata hai,
Ye bachho ka khel nahi, jise chaaha hara diya jita diya.
प्यार कोई दीया नहीं, जब चाहा जला दिया बुझा दिया,
ये बालू का महल नहीं, जब चाहा बना लिया मिटा दिया,
ये रस है जो दिल की गहराइयों से लिकलता है,
ये बच्चों का खेल नहीं, जिसे चाहा हरा दिया जिता दिया।

LEAVE A REPLY