तड़प रहीं हैं साँसें

0
73
views


तड़प रहीं हैं मेरी साँसें
तुझे महसूस करने को,
खुशबू की तरह बिखर जाओ
तो कुछ बात बने।
तड़प रहीं हैं साँसें शायरी


LEAVE A REPLY